Home Construction Loan कैसे लें? | Interest Rates, Eligibility & Application Process

Home Construction Loan : हम सभी के जीवन में सपने अलग-अलग होते हैं लेकिन इस धरती पर जितने भी लोग है उन सब का एक ही सपना कॉमन होता है कि उनका अपना एक अच्छा सा एक घर हो। अपना घर होना हर किसी की पहली जरूरत होती है लेकिन दोस्तों आजकल महंगाई इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि अपने बलबूते प्रॉपर्टी खरीदना बहुत ही मुश्किल है।
अगर आपने किसी भी तरह से प्लॉट खरीद भी लिया तो उस प्लॉट पर कंस्ट्रक्शन कराने के लिए काफी सारे पैसों की जरूरत होती है।

अगर आप किसी भी शहर या गांव में मकान बनाते हो तो उसके लिए भी 25 से 30 लख रुपए का खर्च हो जाता है जिसके चलते बहुत सारे लोग अपना घर नहीं बना पाते हैं। लेकिन अब आपको निराश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि बहुत सारे बैंक और एनबीएफसी कंपनी घर बनाने के इस सपने को पूरा करने के लिए सपोर्ट करते हैं। देश में काफी सारे बैंक और एनबीएफसी कंपनी अपने ग्राहकों को कंस्ट्रक्शन लोन मुहैया कराती है।

आज के इस लेख में हमलोग बात करेंगे कि होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan) क्या होता है?, कंस्ट्रक्शन लोन किन लोगों को मिल सकता है?, कंस्ट्रक्शन लोन कैसे ले सकते हैं? कंस्ट्रक्शन लोन का रेट ऑफ इंटरेस्ट क्या है? कंस्ट्रक्शन लोन लेने के लिए कौन कौन से डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है? और प्लॉट पर कंस्ट्रक्शन कराने के लिए कितना लोन मिलेगा? इन सभी टॉपिक पर हमलोग बात करेंगे।

सबसे पहले ये जानते हैं की होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan) क्या होता है? 

होम कंस्ट्रक्शन लोन क्या होता है? – Home Construction Loan

होम कंस्ट्रक्शन लोन एक प्रकार का ऋण है जो विशेष रूप से सरकारी और निजी बैंक नए घर के निर्माण के लिए धन उपलब्ध कराता है। बैंक इस राशि कई चरणों में देती है जैसे-जैसे निर्माण आगे बढ़ता है, उसी प्रकार से लोन की राशि भी मिलती रहती है। एक बार निर्माण पूरा हो जाने पर, लोन को पारंपरिक बंधक में परिवर्तित किया जा सकता है। यानी जब तक व्यक्ति लोन का पूरा पैसा बैंक को नही दे देता तब तक बैंक उस प्रॉपर्टी पर अपना अधिकार रखती है। कई बार होम कंस्ट्रक्शन लोन जोखिम भरा साबित होता है।

जब बैंक होम कंस्ट्रक्शन लोन देता है तो यह सुनिश्चित करता है कि धनराशि का उपयोग उनके इच्छित उद्देश्यों, जैसे नींव, फ्रेमिंग और फिनिशिंग कार्य के लिए किया जा रहा है। यह होम लोन यानी घर खरीदने के लिए लोन से बिल्कुल अलग होता है।

होम कंस्ट्रक्शन लोन किन लोगों को मिल सकता है?

होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan)

आज के समय में होम कंस्ट्रक्शन लोन में इतने ज्यादा अपडेट हो चुके हैं कि हर वर्ग के लोगों को यह लोन आसानी से मिल सकता है। जैसे Sallaried, Non Sallaried, Business, Goverment Sector, Private Sector इसके अलावा चाहे आप किसी भी क्षेत्र में कार्य करते हैं। उन लोगों को यह लोन मिल सकता है।

इसके अलावा अगर आप ई रिक्शा या ऑटो चलाते हैं या फिर अपना कोई ठेला चलाते हैं या अपनी कोई खुद की दुकान हो तो भी आप इस लोन के लिए एलिजिबल है।

इन्हें भी पढ़ें -   क्या रजिस्टर्ड गिफ्ट डीड कैंसिल हो सकती है? - Can A Registered Gift Deed Be Cancelled? | जानिये नया नियम 2024

दोस्तों अगर आपकी उम्र 24 साल से लेकर 55 साल के बीच है तो आपको यह कंस्ट्रक्शन लोन आसानी से मिल सकता है। अगर आपका प्लॉट डेवलपमेंट अथॉरिटी, एमसीडी, नॉन एमसीडी, गांव की आबादी, लाल डोरा जैसी जगह पर है तो आपको यह होम कंस्ट्रक्शन लोन मिल सकता है।

होम कंस्ट्रक्शन लोन नहीं मिल सकता है यदि –

अगर आपका जमीन एग्रीकल्चर एरिया के अंदर है तो आपको यह होम कंस्ट्रक्शन लोन नहीं मिल सकता है। इसके अतिरिक्त कमर्शियल एरिया में आपका प्लॉट आता है तो वहां पर भी आपको लोन लेने में दिक्कत हो सकती है।

आप कोशिश कीजिए कि किसी रेजिडेंशियल एरिया के अंदर ही प्लॉट खरीदें ताकि कंस्ट्रक्शन लोन लेने में आसानी हो। वैसे भी बैंक द्वारा आपकी प्रॉपर्टी का वेरिफिकेशन किया जाता है। बैंक का कर्मचारी आपके प्लॉट को वेरिफाई करता है और बैंक को रिपोर्ट सौंपता है। सब कुछ ठीक रहा तो बैंक आपको होम कंस्ट्रक्शन लोन ले देगी।

होम कंस्ट्रक्शन लोन लेने की प्रक्रिया – How To Apply For Home Construction Loan?

 

होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan)

होम कंस्ट्रक्शन लोन लेने के लिए नीचे प्रक्रिया दी गई है। इन प्रक्रियाओं को पालन करके आप होम कंस्ट्रक्शन लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

  1. आवेदन फॉर्म भरें
  2. दस्तावेज़ जमा करें
  3. डॉक्यूमेंट वैरिफिकेशन
  4. अप्रूवल लेटर
  5. प्रॉपर्टी वैरिफिकेशन
  6. लोन अप्रूव्ड
  • आवेदन फॉर्म भरें
    होम कंस्ट्रक्शन लोन के लिए किसी भी नजदीकी बैंक में जाकर आवेदन फार्म भरें। आवेदन फॉर्म अपना पहचान, प्रॉपर्टी का विवरण, अपनी आय और स्रोत, शिक्षा आदि से संबंधित जानकारी देनी होती है। आप होम लोन आवेदन फॉर्म ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से भर सकते हैं।
    दस्तावेज जमा करें
    होम कंस्ट्रक्शन लोन एप्लीकेशन फॉर्म सही से भरने के बाद इसमें आपको अपने कुछ महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट भी अटैच करना होगा। इन्हीं डॉक्यूमेंट के आधार पर आपको होम कंस्ट्रक्शन लोन मिल सकता है। होम कंस्ट्रक्शन लोन लेने के लिए महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट की लिस्ट नीचे दी गई है।

होम कंस्ट्रक्शन लोन के लिए कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? – Documents For Home Construction Loan

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. इनकम प्रूफ
  4. बैंक स्टेटमेंट
  5. प्रॉपर्टी दस्तावेज
  • डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन
    बैंक में सारे डॉक्यूमेंट जमा करने के बाद बैंक द्वारा डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन किया जाता है जिसमें डॉक्यूमेंट में उपलब्ध सारी जानकारी का मिलान किया जाता है। डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के दौरान ही व्यक्ति का सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) भी चेक किया जाता है। जिन व्यक्तियों का क्रेडिट स्कोर 700 से ऊपर होता है उन्हें होम कंस्ट्रक्शन लोन आसानी से मिल जाता है तथा जिन व्यक्तियों का सिबिल स्कोर 700 से नीचे होता है उन्हें बैंक से होम कंस्ट्रक्शन लोन लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है ऐसे में एनबीएफसी कंपनियां की तरफ रुख करना पड़ सकता है।
  • अप्रूवल लेटर
    अगर डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन में किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है तो बैंक द्वारा लोन लेने वाले व्यक्ति को अप्रूवल लेटर भेजा जाता है। यह अप्रूवल लेटर का मतलब है कि आपका लोन अप्रूव (Sanction) हो गया है। बैंक यह आश्वासन देती है कि अब एक क्लिक पर आपको पैसा मिल सकता है।
  • प्रॉपर्टी वेरीफिकेशन
    बैंकों द्वारा या वेरिफिकेशन अंतिम चरण होता है। इसमें जिस प्लॉट को बनाने के लिए आप होम कंस्ट्रक्शन लोन ले रहे हैं उसका वेरिफिकेशन किया जाता है। इस वेरिफिकेशन में प्लॉट की कुल कीमत, प्लॉट की स्थिति, प्लॉट के सारे दस्तावेज जैसी चीजों का वेरिफिकेशन होता है। इसमें बैंक का एक अधिकारी आपके प्लॉट पर फिजिकल तौर से जाता है और आपका प्लॉट का मुआयना करता है। आपका प्लॉट पर होम कंस्ट्रक्शन लोन कितना मिलेगा यह प्रॉपर्टी वेरिफिकेशन पर निर्भर करता है।
  • लोन अप्रूव्ड
    सभी प्रकार की वेरिफिकेशन हो जाने के बाद डॉक्यूमेंट 7 से 10 दिनों के भीतर होम कंस्ट्रक्शन लोन प्रदान कर देती है। इसके बाद आपके खाते में पैसा आ जाता है। साथ ही आपको एक वेलकम लेटर और रीपेमेंट शेड्यूल आपके मेल आईडी पर आ जाती है। इसी में आपके मंथली EMI का ब्यौरा रहता है। आपको लोन कितने साल के लिए दिया गया है और लोन का रेट ऑफ इंटरेस्ट क्या है यह सारी जानकारी आपको प्राप्त हो जाती है।
इन्हें भी पढ़ें -   Cibil Score Thik Kaise Kare? | जानिए सिबिल स्कोर को ठीक कैसे करें? - 4 Methods

नोट : अगर आप शुरू में Monthly EMI नहीं देना चाहते हैं तो काफी सारी बैंक केवल ब्याज देने की भी सुविधा देती है। आप केवल ब्याज देकर भी लोन को चालू रख सकते हैं।

होम कंस्ट्रक्शन लोन की ब्याज दर – Interest Rates Of Home Construction Loan

भारत में सभी बैंकों की होम कंस्ट्रक्शन लोन की ब्याज दर अलग-अलग है। आमतौर पर होम कंस्ट्रक्शन लोन की ब्याज दर 7. 5 प्रतिशत से 16 प्रतिशत सालाना तक होता है। इसके अलावा होम कंस्ट्रक्शन लोन की ब्याज दर आपकी इनकम प्रोफाइल और सिबिल स्कोर पर भी निर्भर करता है। जितना अच्छा सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर होगा उतना ही आपको ब्याज दरों में छूट मिलेगी।

होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan)

BANK NAME

INTEREST RATE

State Bank Of India

6.95% Per Annum

Canara Bank

6.90% Per Annum

HDFC Bank

7.35% Per Annum

PNB Housing Finance

9.25% Per Annum

Bank Of Baroda

6.85% Per Annum

Federal Bank

8.15% Per Annum

LIC Housing Finance

9.10% Per Annum

 

कंस्ट्रक्शन लोन कितना मिल सकता है?

कंस्ट्रक्शन लोन कितना मिलेगा यह कई चीजों पर निर्भर करता है। अगर आपकी इनकम ज्यादा है तो आपको ज्यादा होम कंस्ट्रक्शन लोन मिल सकता है। इसके अलावा आपके प्रॉपर्टी की वैल्यूएशन और लोकेशन अच्छी है तो भी कंस्ट्रक्शन लोन ज्यादा मिलेगा।

मान के चलिए आपकी इनकम ₹50000 प्रति महीना है तो ऐसे में बैंक प्रॉपर्टी वैल्यूएशन का 70 प्रतिशत से लेकर 80 प्रतिशत तक लोन दे सकती है और जिन व्यक्ति की सैलरी ₹50000 से कम है तो बैंक उसे प्रॉपर्टी वैल्युएशन का 50 प्रतिशत से लेकर 60 प्रतिशत तक लोन दे सकती है।
इसके अलावा कई बैंक प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत घर बनाने के लिए 2.67 लाख की सब्सिडी भी प्रदान करती है। ऐसे में लोगों को 2.67 लाख रुपए सब्सिडी भी मिल जाती है।

Home Construction Loan के लाभ

आपको Home Construction Loan का विकल्प क्यों चुनना चाहिए। इसके कई लाभ है जैसे :–

  1. आकर्षक ब्याज दरें: आजकल सभी बैंक अपने ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए कम ब्याज दरों पर लोन देती है। जिससे लोन लेना आसान होता है।
  2. लंबी अवधि: होम कंस्ट्रक्शन लोन की अवधि अधिकतर लंबी होती है। जैसे 10 साल, 15 साल, 20 साल आदि। लोन की अवधि लंबी होने की वजह से हर महीने की EMI पर बोझ नहीं पड़ता है और लोन के पुनर्भुगतान में लचीलापन भी मिलता है।
  3. ज्यादा लोन राशि: कभी कभी होम कंस्ट्रक्शन लोन प्रॉपर्टी के वैल्यूएशन से ज्यादा भी मिल जाता है। अगर आपके प्रॉपर्टी की वैल्यूएशन 50 लाख रुपए है तो 30 से 40 लाख का होम कंस्ट्रक्शन लोन मिल सकता है।
  4. टॉप-अप की सुविधाएं: कई बैंक और एनबीएफसी अक्सर टॉप-अप की सुविधाएं प्रदान करते हैं। अगर होम कंस्ट्रक्शन में लोन की राशि की कमी होती है तो अतिरिक्त ऋण राशि भी मिलती है।

निष्कर्ष / Consclusion

आज के समय में कोई व्यक्ति घर बनवाने के लिए कंस्ट्रक्शन लोन प्राप्त कर सकता है। देश के लगभग सभी बैंक और एनबीएफसी संस्थान अलग-अलग ब्याज दरों पर होम कंस्ट्रक्शन लोन उपलब्ध करा रहे हैं।

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना कि होम कंस्ट्रक्शन लोन (Home Construction Loan) क्या होता है? इन सभी विषयों पर हमने आपको एक-एक करके जानकारी देने की कोशिश की है।
उम्मीद करता हूं आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह भी इस जानकारी को समझ कर होम कंस्ट्रक्शन लोन का लाभ ले सकें।

Sharing Is Caring:

Hello friends, My name is Ajit Kumar Gupta I am the writer and founder of Property Sahayta and share all the information related to real estate investment tips and property guides through this website.

Leave a Comment

error: Content is protected !!