जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? – जानिए 4 बड़े Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है?

Dakhil Kharij Ke Benefits किसी भी व्यक्ति के लिए प्रॉपर्टी खरीदना एक बड़ा फैसला होता है। इसमें उस व्यक्ति की जिंदगीभर की कमाई लग जाती है। लेकिन पैसा ज्‍यादा खर्च करने के साथ साथ आपको जमीन में होने वाले धोखाधड़ी से भी सावधानी बरतनी चाहिए। आजकल लोग किसी भी जमीन या प्रॉपर्टी की रजिस्‍ट्री कराकर निश्चिंत हो जाते हैं लेकिन, आपको यह पता होना चाहिए कि जमीन की रिजस्‍ट्री के साथ साथ दाखिल ख़ारिज करवाना भी बहुत जरुरी है। बिना दाखिल ख़ारिज के आप उस जमीन के पूर्णतः मालिक नहीं हैं।

आज के इस ब्लॉग में हम बात करने वाले हैं Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है? आपको यह ब्लॉग जरूर पढ़ना चाहिए क्योंकि यह ब्लॉग जमीन की खरीद बिक्री और लेनदेन से संबंधित है। आपको यह जानकारी भविष्य में जरूर काम आएगी।

लेकिन सबसे पहले हमें ये पता होना चाहिए की दाखिल खारिज क्या होता है?

दाखिल खारिज क्या होता है? What is Mutation of Property in Hindi ?

दाखिल खारिज एक ऐसा कानूनी दस्तावेज है जो आपकी प्रॉपर्टी में किसी भी तरह के फ्रॉड होने से बचाने में मदद करता है। अगर आपने किसी जमीन का दाखिल-खारिज करा लिया है तो इसका मतलब है कि आप उस जमीन के पूर्णतः मालिक है। आप घर बैठे ऑनलाइन या नगर निगम के दफ्तर में जाकर दाखिल-खारिज या म्यूटेशन का रिकॉर्ड देख सकते हैं।

अगर हम आसान भाषा में कहें तो म्यूटेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें रजिस्टर 2 में जिस व्यक्ति से आप जमीन खरीद रहे हैं उस व्यक्ति का नाम वहां से हटा दिया जाता है और जो व्यक्ति खरीद रहा है उसका नाम रजिस्टर 2 में दर्ज कर दिया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें -   जमीन की धारा 143 क्या है? - What Is 143 Land Use? | Advantages Of Section 143

दाखिल खारिज का क्या मतलब होता हैं? What Is The Meaning Of Property Mutation?

जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? - जानिए 4 बड़े Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है?

अगर हम म्यूटेशन यानी दाखिल खारिज के शब्द को या उनके पदों को देखें तो दाखिल का मतलब होता है दखल करना या फिर अंकित करना और खारिज का मतलब होता है निरस्त करना यानी हटा देना तो दाखिल खारिज में पहले वाले व्यक्ति का नाम निरस्त (खारिज) किया जाता है और नया नाम अंकित (दाखिल) कर दिया जाता है इसलिए हम लोग इसे दाखिल खारिज बोलते हैं।

आप जब भी जमीन या कोई प्रॉपर्टीज को खरीदते हैं तो आप तत्काल उस जमीन का रजिस्ट्री या केवाला करवाते हैं रजिस्ट्री करवाने के लिए आप सभी रजिस्टार ऑफिस जाते हैं। वहां पर आपके जमीन की रजिस्ट्री होती है। आपके क्रेता और विक्रेता वहां पर दोनों जाते हैं और दोनों जाकर के उस जमीन का रजिस्ट्री पूर्णरूपेण करवाते हैं वहां पर कुछ पैसे स्टाम्प शुल्क के रूप में लगते हैं, हो सकता है कि वहां पर 10,00,000 में आपको 50,000 लगते हो जो भी पैसा वहां लगता है वह सरकारी खाते में या रेवेन्यू डिपार्टमेंट में चला जाता है। अगर आप उस जमीन का पूर्ण रूप से मालिक बनना चाहते हैं तो आपको उसके लिए जमीन की रजिस्ट्री के साथ साथ दाखिल ख़ारिज या म्यूटेशन यानी करवाना बहुत ही जरूरी है।

अगर आप जमीन के दाखिल ख़ारिज के बारे में अधिक जानना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें

चलिए अब हम लोग बात करते हैं की Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है?

जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? Dakhil Kharij Ke Benefits

जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? - जानिए 4 बड़े Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है?

पहला

जब तक आप म्यूटेशन नहीं करवाते हैं तब तक आप उस जमीन के मालिक नहीं होते हैं यानी कि उस जमीन को आप किसी को बेच भी नहीं सकते या फिर उस जमीन को ट्रांसफर भी नहीं कर सकते।

इन्हें भी पढ़ें -   जमीन की रजिस्ट्री कराने में कितना पैसा लगता है? - Registration And Stamp Duty Charges In India 2024?

दूसरा

अगर आप म्यूटेशन नहीं करवाते हैं तो जिससे आप जमीन लिए हैं वह व्यक्ति दोबारा उस जमीन को बेच सकता है ऐसे कई केस देखने को मिले हैं जिसमें जमीन दोबारा बेच दिया गया है इसलिए दाखिल खारिज करना बहुत जरूरी है आप जमीन कहीं पर लिए हैं तो म्यूटेशन जरूर करवा लें मालिक खुद बने ताकि आपको ओनरशिप मिल जाए और कोई उस जमीन को बेच ना सके

तीसरा

जब कभी सरकारी कंसंट्रेशन में कुछ खनिज पदार्थ मिलता है तो सरकार उस जमीन को अपने अंडर में या अधिकृत कर लेती है और उस जमीन का मुआवजा देती है मान के चलिए जो जमीन आप जो खरीदे हैं वहां पर कुछ खनिज वगैरह निकल जाता है तो वहां पर सरकार उस जमीन को ले लेती है और सरकार उस जमीन के लिए पैसा अदा करती है तो अगर आपका दाखिल खारिज नहीं हुआ है तो सरकार की तरफ से पैसा भी आपको नहीं मिलेगा

चौथा

अगर आपने किसी जमीन का दाखिल खारिज नहीं करवाया है तो, उस प्रॉपर्टी के एवज में आप किसी बैंक से लोन भी नहीं ले सकते हैं क्योंकी वो प्रॉपर्टी अभीतक आपके नाम पर पूर्णतः दर्ज नहीं हुई है। इसलिए जमीन का दाखिल खारिज कराना भी बहुत जरूरी होता है।

तो दोस्तों यह थे कुछ जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? Dakhil Kharij Ke Benefits के बारे में .

CONCLUSION

दोस्तों अब आप समझ चुके होंगे कि जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है? इसके अलावा दाखिल खारिज क्या होता है ? What is Mutation of Property in Hindi ?

मुझे भरोसा है कि आपके लिए यह जानकारी बहुत ही महत्वपूर्ण रहा होगा अगर आपको कुछ समझ में नहीं आया हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। दोस्तों अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ताकि वह लोग भी इस जानकारी को समझ सके।

Sharing Is Caring:

Hello friends, My name is Ajit Kumar Gupta I am the writer and founder of Property Sahayta and share all the information related to real estate investment tips and property guides through this website.

2 thoughts on “जमीन का दाखिल खारिज क्यों जरूरी है? – जानिए 4 बड़े Dakhil Kharij Ke Benefits क्या है?”

  1. A man sold a piece of land in the name of his grandfather, on stamp paper only,in March 79,and didn’t get registered, till now.
    But somehow got mutation done in Nov 93. In July 23,he got the land entered in register-2(Jamabandi) also. Can he do this legally, if not what actions could be taken against whomsoever???

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!