क्या होती है Power of Attorney? – जानिए पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द करें?

आज भी भारत में ऐसे कई शहर और राज्य हैं जहां पर पावर ऑफ अटॉर्नी के आधार पर प्रॉपर्टी की खरीद बिक्री की जाती है लेकिन कई बार बहुत से लोगों को पावर ऑफ अटॉर्नी के बारे में सही जानकारी नहीं होती है जिससे वह बाद में इसका पछतावा करते हैं।

भारत में ऐसे बहुत से जगह हैं जहां पर पावर ऑफ अटॉर्नी एक लीगल डॉक्यूमेंट है। वहीं दूसरी तरफ ऐसे भी राज्य हैं जहां पर पावर ऑफ अटॉर्नी की कोई वैधता नहीं है। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि अगर आप पावर ऑफ अटॉर्नी के आधार पर कोई प्रॉपर्टी खरीदते हैं और बाद में उस प्रॉपर्टी पर कोई वाद विवाद होता है तो इसका निपटारा आप कैसे कर सकते हैं?

लेकिन यह सब जानने से पहले आपको यह जानना जरूरी है कि पावर ऑफ अटॉर्नी क्या होता है? – What Is Power Of Attorney In Hindi?

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी क्या है? What Is Power Of Attorney In Hindi?

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी एक महत्वपूर्ण कानूनी दस्तावेज होता है। पावर ऑफ अटॉर्नी किसी अन्य व्यक्ति को संपत्ति बेचने तथा संपत्ति से जुड़े मामले में अदालत जाने और कार्यवाही करने का अधिकार देता है ताकि वह व्यक्ति कानूनी कार्यों को संपादित कर सके। अधिकतर मामलों में किसी अन्य व्यक्ति को पावर ऑफ अटॉर्नी तब बनाया जाता है जब संपत्ति का मालिक लंबे समय से बीमार हो, संपत्ति का मालिक विदेश में रहता हो, संपत्ति का मालिक विकलांग हो।

जब किसी अन्य व्यक्ति को पावर ऑफ अटॉर्नी बनाया जाता है तो उसकी राय का वही अर्थ होता है जो मूल मालिक की राय का होता है। उस व्यक्ति को यह अधिकार दिया जाता है कि संपत्ति को बेच सके, संपत्ति पर कानूनी कार्रवाई कर सके।

नोट – पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी अपने परिवार के अपने वारिस तथा किसी अन्य व्यक्ति को भी बनाया जा सकता है।

आजकल बहुत से लोग घर या संपत्ति खरीदते समय केवल पावर ऑफ अटॉर्नी जारी करके अपने मामलों को प्रबंधित करने का प्रयास करते हैं। शायद वह पैसा बचाना चाहता है या पावर ऑफ अटॉर्नी का सही मतलब नहीं जानता। पावर ऑफ अटॉर्नी के साथ, आपको संपत्ति या गृहस्वामी के सभी अधिकार प्राप्त होते हैं, लेकिन फिर भी आपके पास संपत्ति का स्वामित्व नहीं होता है। अगर कोई सिर्फ पावर ऑफ अटॉर्नी के जरिए घर या संपत्ति खरीदता है तो उसे भविष्य में गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं।

पावर ऑफ अटॉर्नी के साथ एक संपत्ति मालिक किसी और को अपनी संपत्ति बेचने का अधिकार देता है। इसका मतलब यह नहीं कि संपत्ति ही उसकी संपत्ति हो गयी. जिस व्यक्ति के नाम पर पावर ऑफ अटॉर्नी जारी की जाती है उसे ट्रस्टी या एजेंट कहा जाता है, और जिसने इसे जारी किया है उसे प्रिंसिपल कहा जाता है। यह मानकर कि संपत्ति का मालिक आपकी ओर से पावर ऑफ अटॉर्नी जारी कर रहा है, आप मालिक के एजेंट बन जाते हैं और मालिक प्रिंसिपल बन जाता है। इस जमीन के संबंध में आप दोनों जो भी निर्णय लेंगे वह मान्य होगा। आपको यह जमीन बेचने का पूरा अधिकार है।

इन्हें भी पढ़ें -   पावर ऑफ अटॉर्नी और रजिस्ट्री में अंतर - Power Of Attorney Vs Registry | जानिए कौन है ज्यादा सुरक्षित?

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी की परिभाषा – Definition Of POA (Power Of Attorney)

पावर ऑफ अटॉर्नी (पीओए) एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो आपको कानूनी या वित्तीय मामलों को किसी अन्य व्यक्ति को सौंपने की अनुमति देता है, जिसे एजेंट या वकील कहा जाता है। यदि आप शारीरिक या मानसिक कारणों से काम करने में असमर्थ हैं और अब आप संपति से जुड़े मामलों का प्रबंधन नहीं कर सकते हैं तो अपने परिवार में किसी व्यक्ति को पावर ऑफ अटॉर्नी नियुक्त कर सकते हैं।

वैसे तो भारत में पावर ऑफ अटॉर्नी कई प्रकार के होते हैं लेकिन नीचे कुछ मुख्य पावर ऑफ अटॉर्नी के प्रकार दिए गए हैं। जहां पर उनके विभिन्न प्रकार की शक्तियों के बारे में जान सकते हैं।

पावर ऑफ अटॉर्नी के प्रकार और उनकी शक्तियां – Types of Power of Attorney And Their Powers

क्या होती है Power of Attorney? - जानिए पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द करें?

1. जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी (General Power of Attorney)

यह एक सामान्य पावर ऑफ अटॉर्नी है। इस प्रकार की POA (Power Of Attorney) में व्यक्ति को संपत्ति से जुड़े कानूनी कार्य करने की अनुमति होती है। सामान्य पावर ऑफ अटॉर्नी समझौते तब समाप्त हो जाते हैं जब प्रिंसिपल (मूल मालिक) सक्षम हो जाता है। यह आमतौर पर रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी और कमर्शियल प्रॉपर्टी के प्रबंधन के लिए उपयोग किया जाता है।

2. संयुक्त पावर ऑफ़ अटॉर्नी (Joint Power of Attorney)

इस प्रकार की POA (Power Of Attorney) में दो या अधिक व्यक्तियों को साथ में कानूनी कार्य करने की अनुमति होती है। इसका उपयोग आमतौर पर विशेष अनुबंधों (Special Contract) में किया जाता है।

3. स्पेशल पावर ऑफ़ अटॉर्नी (Special Power of Attorney)

इस प्रकार की POA (Power of Attorney) में केवल विशिष्ट कार्यों के लिए किसी व्यक्ति को पावर ऑफ़ अटॉर्नी दी जाती है। इसका उपयोग किसी विशेष कार्यों जैसे वित्तीय लेन-देन, खाते खोलना, अधिकारिक प्रबंधन, या निर्माण कार्यों के प्रबंधन में किया जाता है।

दोस्तों ऊपर हमने आपको पावर ऑफ अटॉर्नी के प्रमुख प्रकार और उनके शक्तियों के बारे में जानकारी देने की कोशिश की है। चलिए हम लोग अब यह जानते हैं कि अगर कोई व्यक्ति धोखे से पावर ऑफ अटॉर्नी करा लेता है और अपनी शक्तियों का गलत इस्तेमाल करता है तो पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द कर सकते हैं।

भारत में ऐसे कई मामले सामने आते रहे हैं जहां पर गलत तरीके से पावर ऑफ अटॉर्नी कराकर प्रॉपर्टी की खरीद बिक्री की जाती रही है। हालांकि पावर ऑफ अटॉर्नी को अदालत में गलत साबित करना काफी जोखिम भरा काम होता है लेकिन फिर भी अगर लोगों को सही जानकारी हो तो पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द (Cancel) किया जा सकता है। आज हम आपको उन्हें तरीकों के बारे में जानकारी देंगे करके आप अदालत में पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द करने की मांग कर सकते हैं।

पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द कैसे करें? – How To Cancel A Power Of Attorney?

क्या होती है Power of Attorney? - जानिए पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द करें?

पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द करने के लिए, कानूनी तौर पर ऐसी पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द करने के लिए कुछ चरणों का पालन करना चाहिए। पावर ऑफ़ अटॉर्नी को रद्द करने की प्रक्रिया को रेवोकेशन प्रक्रिया कहते हैं। ​​पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द करने और इसे नियंत्रित करने वाला कोई निश्चित कानून का प्रावधान नहीं है, फिर भी ​​पावर ऑफ अटॉर्नी के निस्तरण की प्रक्रिया भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 A से ली गई है।

पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द करने की प्रक्रियाएँ इस प्रकार हैं।

  1. आप सबसे पहले पावर ऑफ अटॉर्नी को केवल रद्द करने के लिए एक सही वकील द्वारा ‘एजेंट’ को नोटिस देकर या एक रद्दीकरण पत्र देकर रद्द करने की प्रक्रिया अपना सकते हैं।
  2. पावर ऑफ अटॉर्नी के रद्दीकरण के संदर्भ में एक विलेख तैयार किया जाना चाहिए और उसकी एक प्रति वकील को भेजी जानी चाहिए ताकि वह इसे रद्द कर सके।
  3. पावर ऑफ अटॉर्नी रद्द होने के बाद आम जनता की जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए एक पेपर प्रकाशन जारी किया जाएगा ताकि जिन्होंने भी प्रॉपर्टी एजेंट से खरीदी है उन्हे यह जानकारी प्राप्त हो सके।
इन्हें भी पढ़ें -   गिफ्ट डीड क्या है? (What is Gift Deed) - गिफ्ट डीड के प्रकार | सम्पूर्ण जानकारी 2023

दोस्तों। जैसा कि मैंने ऊपर बताया है कि भारत में कई प्रकार के पावर ऑफ अटॉर्नी और उनकी शक्तियां होती हैं। अगर जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी है तो आप उपरोक्त प्रक्रियाओं का सामना करके पावर ऑफ अटॉर्नी को रद्द के लिए आवेदन दे सकते हैं। हालाँकि यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि भारत में कुछ अपरिवर्तनीय पावर ऑफ अटॉर्नी भी होती है जिनको रद्द करना बहुत मुश्किल और जोखिम भरा होता है। हालाँकि, अधिकृत प्रतिनिधि की मानसिक बीमारी की स्थिति में या ऐसे मामलों में जहां पावर ऑफ अटॉर्नी का प्राथमिक उद्देश्य समाप्त हो जाता है, मृत्यु की स्थिति में पावर ऑफ अटॉर्नी स्वचालित रूप से रद्द या निरस्त हो जाती है।

क्या पावर ऑफ अटॉर्नी से संपत्ति खरीदना सुरक्षित है? – Is It Safe To Buy Property With Power Of Attorney?

क्या होती है Power of Attorney? - जानिए पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द करें?

पावर ऑफ अटॉर्नी के साथ संपत्ति खरीदना स्टॉक मार्केट से इक्विटी खरीदने जितना ही है। ऐसे मामलों में आपको विचार करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिंदु नीचे दिए गए हैं।

  1. एक भरोसेमंद व्यक्ति का चयन – पावर ऑफ अटॉर्नी से संपत्ति की बिक्री के लिए तथा संपत्ति का मैनेज करने के लिए एक भरोसेमंद और ईमानदार व्यक्ति को चुनना महत्वपूर्ण है।
  2. डॉक्यूमेंट सत्यापन – संपत्ति खरीदने से पहले यह जांच लें कि आपके राज्य में पावर ऑफ अटॉर्नी एक आवश्यक कानूनी दस्तावेज है या नहीं। हालांकि भारत में कई राज्यों के सरकारें पावर ऑफ अटॉर्नी को वैध डॉक्यूमेंट नहीं मानती है
  3. संपत्ति का निरीक्षण करें – अगर आप पावर ऑफ अटॉर्नी की मदद से संपत्ति खरीदने का सोच रहे हैं तो संपत्ति का निरीक्षण जरूर करें और यदि संभव हो तो खरीदने से पहले ही करें।
  4. आवश्यक कानूनी सलाह – किसी भी अचल संपत्ति को खरीदने से पहले पावर ऑफ अटॉर्नी दस्तावेजों को ध्यान से पढ़ें और समझें और यदि आवश्यक हो तो किसी अच्छे वकील से परामर्श लें।

Note – कुल मिलाकर बात यह है कि पावर ऑफ अटॉर्नी के द्वारा संपत्ति खरीदने से पहले सावधानी और समझदारी बरतनी बहुत जरूरी है।

निष्कर्ष / Conclusion

पावर ऑफ अटॉर्नी रद्द करना एक महत्वपूर्ण और कठिन प्रक्रिया है लेकिन भारत जैसे देश में कानूनी तौर पर यह संभव है। पॉवर ऑफ अटॉर्नी को कैंसिल करने के लिए संपत्ति के मूल मालिक को निरस्तीकरण की घोषणा करनी चाहिए और सभी शक्तियों को निरस्त करने के लिए एक कानूनी विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए। किसी विशेषज्ञ से परामर्श लेना यह सुनिश्चित करता है कि इस प्रक्रिया में कोई त्रुटि तो नही है।

इसके अतिरिक्त, आपको पावर ऑफ अटॉर्नी का उपयोग करके संपत्ति खरीदने से पहले सावधान रहना चाहिए। जब प्रॉपर्टी खरीदने की बात आती है, तो एक विश्वसनीय और ईमानदार व्यक्ति को चुनना बहुत महत्वपूर्ण है और यदि आवश्यक हो तो एक कानूनी विशेषज्ञ की सलाह लें। साथ ही अगर आप कोई प्रॉपर्टी लेने की सोच रहें है तो आपको प्रॉपर्टी में होने वाले फ्रॉड के बारे में जरूर पता होना चाहिए।

दोस्तों इस लेख में हमने आपको बताया कि पावर ऑफ अटॉर्नी को कैसे रद्द किया जाए, पावर ऑफ अटॉर्नी का क्या मतलब है और इससे जुड़ी कौन कौन समस्याएं होती हैं। इससे आपको अपने कानूनी अधिकारों और जिम्मेदारियों को समझने और अपनी संपत्ति और अन्य मामलों के संबंध में सही निर्णय लेने में मदद मिलेगा।

उम्मीद करती हूं आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह भी इस जानकारी को समझ सके।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

error: Content is protected !!