दाखिल खारिज करवाने में कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? – Land Mutation Documents 2024

Land Mutation Documents – हम कोई जमीन या प्रॉपर्टी खरीद तो लेते हैं लेकिन दाखिल खारिज करवाते समय हमें यह जानकारी नहीं होती की दाखिल खारिज में कौन-कौन से दस्तावेज लगते हैं। ऐसे में सही जानकारी न होने के कारण तहसील या भूलेख विभाग में चक्कर काटने पड़ते हैं। इसलिए आज के इस लेख में हम लोग बात करेंगे की दाखिल खारिज करवाने में कौन-कौन से दस्तावेज जरूरी होते हैं? (Land Mutation Documents)

जमीन की दाखिल खारिज करने में कौन-कौन से डॉक्यूमेंट (Land Mutation Documents) लगते हैं जानने के लिए हमें यह जानना जरूरी है कि दाखिल खारिज क्या होता है?

दाखिल खारिज क्या है? – What Is Land Mutation?

दाखिल खारिज एक कानूनी प्रक्रिया है, जिसमें किसी संपत्ति के मालिक का नाम दाखिल या खारिज किया जाता है। यह तब होता है, जब कोई प्रॉपर्टी या संपत्ति को खरीदता है, वसीयत करता है, या किसी अन्य प्रकार से हस्तांतरण करता है। दाखिल खारिज कराने से, संपत्ति के नए मालिक का नाम सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज होता है, और पुराने मालिक का नाम सरकारी रिकॉर्ड से हटा दिया जाता है।

अगर हम दाखिल खारिज के शब्दों को ध्यान से देखें तो इसमें साफ-साफ पता चलता है कि विक्रेता का नाम खारिज करके क्रेता का नाम दाखिल किया जाता है। इसलिए इसे दाखिल खारिज या इंग्लिश में म्यूटेशन कहते हैं।

वैसे तो दाखिल खारिज कराने के कई फायदे हैं, लेकिन नीचे निम्न हैं जैसे:

  • जमीन या प्रॉपर्टी के मालिक को एक कानूनी पहचान मिलती है।
  • संपत्ति पर कोई विवाद या मुकदमा होने पर, मालिक को सुरक्षा मिलती है।
  • संपत्ति पर कर, सेवा, शुल्क, आदि का भुगतान करने में सुविधा मिलती है।
  • संपत्ति को पुन: बेचने, मोर्टगेज करने, या प्रतिभूति प्राप्त करने में सहायता मिलती है।
इन्हें भी पढ़ें -   प्रॉपर्टी में होने वाले फ्रॉड से कैसे बचें? | How To Avoid Property Fraud In India?

दोस्तों आपको बता दें कि जमीन की दाखिल खारिज की प्रक्रिया भारत में राज्यों के अनुसार अलग-अलग हो सकती है।

दाखिल खारिज करवाने में कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? – Land Mutation Documents 2024

अगर बात करें दाखिल खारिज करने में डॉक्यूमेंट की तो जब आप जमीन का रजिस्ट्री कराते हैं तो आपको जमीन की रजिस्ट्री की कॉपी मिलती है जिसे हम रजिस्ट्री या सेल डीड भी कहते हैं। इस सेल डीड की कॉपी को आपको रजिस्टार ऑफिस या भूलेख विभाग में जाकर जमा करना होगा इसके साथ-साथ आपको आधार कार्ड की कॉपी, पैन कार्ड की कॉपी, दो पासपोर्ट साइज फोटो, मोबाइल नंबर, जमीन का पुराना रसीद आदि जमा करना होगा।

दाखिल खारिज में करवाने में लगने वाले दस्तावेज – Documents Required For Land Mutation

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • रजिस्ट्री की कॉपी
  • शपथ पत्र
  • स्टांप पेपर
  • प्रॉपर्टी टैक्स भुगतान की पुरानी रसीद
  • मोबाइल नंबर

 

दाखिल खारिज कराने में कितना खर्चा आता है? – Cost For Land Mutation?

दाखिल खारिज करवाने में कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? - Land Mutation Documents 2024

बात करें दाखिल खारिज में खर्च की तो यह भारत में राज्यों के हिसाब से अलग-अलग फीस लगती है। लेकिन आमतौर पर जमीन का दाखिल खारिज कराने में ₹200 से लेकर 2500 रुपए तक लगता है। इसमें भी आरक्षण की सुविधा है यानी यदि आप पिछड़े वर्ग अनुसूचित जनजाति या वकार से हैं तो दाखिल खारिज करने में कोई फीस नहीं लगेगा।
लेकिन दाखिल खारिज कराने में लगने वाले सटीक फीस के लिए आप स्थानीय भूलेख विभाग में जाकर पता कर सकते हैं वहां आपको एकदम सही जानकारी मिलेगी।

जमीन का दाखिल खारिज कितने दिन में होता है? – How Many Days It Take For Land Mutation?

भारत सरकार के राजस्व संहिता के अनुसार रजिस्ट्री या बैनामा के बाद 45 दिनों में दाखिल खारिज होता है। और यदि उस जमीन या प्रॉपर्टी पर कोई आपत्ति होती है तो 90 दिन में इसका निस्तारण करने की व्यवस्था है। लेकिन आमतौर पर जमीन की रजिस्ट्री के बाद 15 से 30 दिन के अंदर ही आप दाखिल खारिज के लिए तहसील या भूलेख विभाग में आवेदन दे सकते हैं।

इन्हें भी पढ़ें -   खुश्की बैनामा क्या होता है? - Khushki Bainama Kya Hota Hai? | सम्पूर्ण जानकारी 2024

कई राज्य सरकार के भूलेख विभाग मैं दाखिल खारिज पूर्ण होने में अलग-अलग समय लग सकता है। इसके लिए आप नजदीकी भूलेख विभाग में जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। दाखिल खारिज के लिए आवेदन देने के दो हफ्ते बाद आप उसे दाखिल खारिज की प्रतिलिपि ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यम से निकाल सकते हैं।

Important Points – इस संदर्भ में आपसे कहना चाहूंगा कि जमीन के दाखिल खारिज के लिए आवेदन हमेशा 90 दिन के अंदर ही करनी चाहिए। यदि आप आवेदन अंचल या तहसील कार्यालय में समय पर नहीं देते हैं तो इसमें आपको आगे परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और आंचल या तहसील कार्यालय में चक्कर लगाना पड़ सकता है। ज़मीन की रजिस्ट्री के बाद दाखिल खारिज के लिए आवेदन सही समय पर करें।

निष्कर्ष / Conclusion

दाखिल खारिज करवाना बहुत ही आसान प्रक्रिया हो गया है। भारत में अधिकतर राज्य हैं जिन्होंने दाखिल खारिज के लिए ऑनलाइन वेब पोर्टल लॉन्च किया है। आप उस वेबसाइट पर दाखिल खारिज आसानी से करवा सकते हैं। हालांकि दाखिल खारिज की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपके नजदीकी तहसील या भूलेख विभाग में एकबार जरूर जाना होगा।

दोस्तों अंत में इतना ही कहना चाहूंगा कि अगर आप कोई प्रॉपर्टी ले रहे हैं चाहे वह फ्री होल्ड प्रॉपर्टी हो या फिर लीज होल्ड प्रॉपर्टी तो उस प्रॉपर्टी के सारे डॉक्यूमेंट चेक कीजिए जैसे कि खतौनी, खाता संख्या, केवाला या रजिस्ट्री और दाखिल खारिज आदि डॉक्यूमेंट की जांच पड़ताल जरूर करें और सारे लीगल डॉक्यूमेंट चेक करने के बाद ही कोई प्रॉपर्टी ले।

इस लेख में हमने जाना कि दाखिल ख़ारिज करवाने में कौन कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? (Land Mutation Documents), दाखिल खारिज कराने में कितना खर्चा आता है? और जमीन का दाखिल खारिज कितने दिन में होता है? इन सभी टॉपिक पर जानकारी देने की कोशिश किया है।

दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर दोस्तों जानकारी अच्छी लगी हो तो इस ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह भी इस जानकारी को समझ सकें। अगर आपको इस ब्लॉग में कोई बात समझ में नहीं आई हो तो आप हमसे नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Sharing Is Caring:

Hello friends, My name is Ajit Kumar Gupta I am the writer and founder of Property Sahayta and share all the information related to real estate investment tips and property guides through this website.

8 thoughts on “दाखिल खारिज करवाने में कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगते हैं? – Land Mutation Documents 2024”

  1. Gàun ke avadi ke makano ke malikon ke àbhilekh kahà hote hàin. Dakhil kharij Patra prapt hone per sambadhi adhikari dwara hissedar ya hitbadhya byakti ko suchana hetu kya kiya jata hay

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!