कम पैसे में मजबूत घर कैसे बनाएं? | Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye? सम्पूर्ण जानकारी 2024

कम पैसे में मजबूत घर कैसे बनाएं? | Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye? सम्पूर्ण जानकारी 2024 : आजकल जमीन के साथ साथ बिल्डिंग मैटेरियल्स भी इतने महंगे हो गए हैं कि घर बनाना काफी मुश्किल हो गया है। कई लोग अपनी जमीन होने के बाद भी घर नहीं बना पाते हैं।

दोस्तों अगर आप कम लागत में घर बनाने की सोच रहें हैं तो कम लागत के साथ सही प्लानिंग का भी होना जरूरी है क्योंकि घर बनाना छोटा-मोटा काम नहीं, एक बड़ा श्रम और मेहनत की कमाई का एक बड़ा भाग लगता है। इसमें पाई-पाई मायने रखती है।
अगर योजनाबद्ध तरीके से घर का निर्माण किया जाए तो कम बजट में भी अच्छे घर का निर्माण किया जा सकता है।

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं कैसे आप कम खर्चों में एक सुंदर सा घर बनवा सकते हैं। अगर आपने नीचे दिए सभी स्टेप्स को फॉलो कर लिया तो मुझे पूरा विश्वास है कि आप लगभग 15 से 20 फीसदी पैसा बचा सकते हैं।
आईए जानते हैं कुछ महत्वपूर्ण तरीकों के बारे में जो कम खर्च में एक टिकाऊ घर बनाने में काम आऐंगे।

कम बजट में घर बनाने के आसान तरीके : Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye?

Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye?

कम बजट में घर बनाने के आसान तरीके : Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye? कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं। आप इन तरीके की मदद से काफी सारे पैसों की बचत कर सकते हैं।

  1. गहरी नींव ना खुदवाएं
  2. सुविधानुसार घर का नक्शा बनवाएं
  3. बिल्डिंग मैटेरियल खरीदते समय बारगेनिंग करें
  4. जरूरत के हिसाब से मिस्त्री और लेबर रखें
  5. फ्लाई-ऐश ईंट का उपयोग करें
  6. कंक्रीट (RCC) चौखट का उपयोग करें
  7. टॉयलेट और बाथरूम साथ में बनवाएं
  8. लोकल सामान भी इस्तेमाल करें

कम बजट में घर बनाने के 8 आसान तरीके : Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banayen?

चलिए इन उपायों के बारे में एक-एक करके विस्तार से जानकारी लेते हैं।

  • गहरी नींव ना खुदवाएं

नींव खुदवाना घर बनाने की पहली शुरुआत होती है। कई बार हम घर मजबूत बनाने के चक्कर में नींव को ज्यादा गहरा खुदवा देते हैं जिससे बिल्डिंग मैटेरियल के साथ-साथ पैसों की भी बर्बादी होती है। ऐसे में बात आती है कि घर की नींव कितनी गहरी होनी चाहिए तो दोस्तों आपको बता दें कि जब आप एक घर बना रहे हैं तो ज्यादा से ज्यादा 1 मीटर ही गहरी नींव रखें। ऐसा करने से आपके पैसों की काफी बचत होगी।

  • सुविधानुसार घर का नक्शा बनवाएं

घर पर भवन निर्माण करने से पहले घर का नक्शा जरूर बनवाएं। भले ही इसके लिए आपको ₹2000 खर्च ही क्यों न करने पड़े। एक अच्छे आर्किटेक्ट को देखकर अपनी सुविधा और बजट के अनुसार घर का नक्शा बनवाएं। ऐसा करने से आप कम पैसों में एक अच्छा घर का डिजाइन बनवा सकते हैं। अगर आपका बजट बहुत कम है और आर्किटेक्ट को पैसा देने से भी बचाना चाहते हैं तो आप यूट्यूब पर अपने घर के साइज के हिसाब से नक्शा देख सकते हैं। आपको काफी सारे वीडियो देखने को मिल जाएंगे।

  • बिल्डिंग मैटेरियल खरीदते समय बारगेनिंग करें

घर में इस्तेमाल होने वाले सभी बिल्डिंग मटेरियल को खरीदते समय बारगेनिंग जरूर करना चाहिए। दोस्तों कई लोग बारगेनिंग करने में शर्मिंदगी महसूस करते हैं। लेकिन यह बारगेनिंग आपको अच्छा फायदा दे सकती है। मान लीजिए की आप 50 बोरी सीमेंट ले रहे हैं और आपने प्रत्येक बोरी पर ₹10 बारगेनिंग किया। तो आपको सीधा-सीधा ₹500 का प्रॉफिट हो गया। ऐसे ही सभी बिल्डिंग मटेरियल जैसे कि ईंट, रोड़ी, बदरपुर, सरिया गिट्टी आदि में बारगेनिंग कर सकते हैं।
इसके अलावा अन्य दुकानदारों से भी रेट का अनुमान ले सकते हैं। जहां आपको कम रेट में अच्छी क्वालिटी का सामान मिले वहीं से बिल्डिंग मटेरियल लेना चाहिए।

  • जरूरत के हिसाब से मिस्त्री और लेबर रखें
इन्हें भी पढ़ें -   प्रॉपर्टी डीलर का बिजनेस कैसे शुरू करें? - Property Dealer Kaise Bane? | Business Ideas 2024

घर बनाने के लिए उपयुक्त मात्रा में मजदूर और मिस्त्री रखना चाहिए जिससे उनकी मजदूरी का बोझ ज्यादा ना हो। कई बार लोगों को घर बनवाने की इतनी जल्दी होती है की ज्यादा मिस्त्री और लेबर रख लेते हैं। आप कोशिश करें की जरूरत के हिसाब से ही मिस्त्री और लेबर रखें। आप 100 गज का घर बनवाने के लिए 2 मिस्त्री और 2–3 लेबर रख सकते हैं। इससे आपका काम भी अच्छा होगा और बजट पर भी ज्यादा असर नहीं होगा।

  • फ्लाई-ऐश ईंट का उपयोग करें

लाल मिट्टी के मुकाबले फ्लाई ऐश वाली ईंट 3 से 4 रुपए प्रति ईंट सस्ती पड़ती है।
लाल मिट्टी की ईंटों की तुलना में फ्लाई ऐश ईंटें बहुत लाभ प्रदान करती हैं। लाल ईंट की तुलना में फ्लाई-ऐश ईंट वजन में हल्के होते हैं और सभी दीवारों में काफी अच्छी फिनिशिंग आती है जिससे Plaster में भी सीमेंट की बचत होती है। इसके अलावा फ्लाई-ऐश ईंट कम पानी सोखती इसलिए घर के दीवारों में रिसाव (Seepage) नहीं होता और उसपर लगा हुआ पेंट ख़राब नहीं होता तथा वॉल पुट्टी में पपड़ी नहीं बनती है।
फ्लाई-ऐश ईंट का चुनाव करने से काफी पैसों की बचत हो सकता है क्योंकि बिल्डिंग मटेरियल में अधिकतर पैसा ईंटों पर ही खर्च होता है।

  • कंक्रीट (RCC) चौखट का उपयोग करें

आजकल आए दिन दिन नए-नए अविष्कार होते जा रहे हैं। पहले के समय में लोग लकड़ी की चौखट और लकड़ी के मोटे-मोटे गेट (दरवाजा) बनाया करते थे। फिर लकड़ी की जगह लोहे और स्टील ने ले ली और अब तो आपको लोहे और स्टील की भी जरूरत नहीं है। घर का चौखट बनाने के लिए कंक्रीट RCC का चौखट उपयोग किया जा रहा है। इस RCC चौखट में पहले से ही दरवाजे को लगाने के लिए जगह छोड़ी जाती है। जिससे चौखट लगाने की जरूरत नहीं होती। इस प्रकार की चौखट काफी मजबूत और टिकाऊ होती है। अगर आपका बजट कम है तो आप अपने घर में इस प्रकार के चौखट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • टॉयलेट और बाथरूम साथ में बनवाएं

जब भी आप घर बनवाए तो टॉयलेट और बाथरूम को एक ही जगह पर बनवाएं ताकि पैसों की बचत हो। कई बार हम टॉयलेट और बाथरूम को अलग-अलग बनवाते हैं जिससे उसमें इस्तेमाल होने वाले ईंट और अन्य बिल्डिंग मटेरियल की खपत बढ़ जाती है जिसमे खर्चों का वहन हमें ही करना पड़ता है। अगर आप इन खर्चों को बचाना चाहते हैं तो टॉयलेट और बाथरूम साथ में बनवाऐं।

  • लोकल सामान भी इस्तेमाल करें

घर में इस्तेमाल होने वाले सभी छोटी व बड़ी लोकल कंपनी की भी खरीद सकते हैं। आमतौर पर मार्केट में स्थित सभी ब्रांड अपने आप को नंबर वन बताती हैं। ऐसे में सोचने वाली बात है कि कोई तो नंबर 2 होता होगा। आपको बता दें कि यह सभी कंपनियों की एक मार्केटिंग करने का तरीका होता है। इसलिए आप अपने बुद्धि का सही इस्तेमाल करें। कई आपने देखा होगा कि कई बार लोकल सामान भी काफी दिनों तक चल जाते हैं। इसलिए अगर आपका घर बनाने का बजट कम है तो आप घरों में लोकल सामान का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आजकल तो लोकल सामान भी वारंटी और गारंटी के साथ आने लगे हैं।

ऊपर हमने कुछ महत्वपूर्ण तरीकों के बारे में जाना जिस पर हम अमल करके काफी सारे पैसों की बचत कर सकते हैं।
चलिए हम लोग अभी जानते हैं कि कम बजट में घर बनवाते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें -   रियल एस्टेट में RERA क्या है? - RERA रजिस्ट्रेशन के लिए पंजीकरण प्रक्रिया

कम पैसों में घर बनवाने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स : Important Tips For Making Home?

Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye?

  • अक्सर लोग घर बनाने के लिए ठेकेदार को ठेका दे देते हैं, ऐसे में खर्चा ज्यादा आता है और उसकी गुणवत्ता की भी गारंटी नहीं रहती है।
  • घर बनाने में इस्तेमाल होने वाली सभी चीजों में सस्ती के साथ साथ अच्छी मटेरियल्स का होना चाहिए।
  • मिस्त्री और मजदूर के साथ-साथ आप खुद भी थोड़ा बहुत कुछ काम कर सकते हैं। जैसे :– साफ सफाई आदि इससे आपके पैसों की बचत होगी।
  • घर का डिजाइन सिम्पल रखें और बजट के हिसाब से कमरों का चुनाव करें।
  • अगर आपका बजट कम है तो एक मंजिल (फ्लोर) घर बनाएं।
  • बिल्डिंग मटेरियल को घर से ज्यादा दूरी पर ना रखें। अगर ईट, रोडी, बदरपुर, सीमेंट ज्यादा दूरी पर है तो उसे ढोने के लिए एक्स्ट्रा मजदूर की जरूरत पड़ेगी।
  • बिल्डिंग मैटेरियल को थोक में खरीदें। इससे आप दुकानदार से अच्छी बारगेनिंग कर सकते हैं और सामान को बार-बार ले जाने में खर्च भी नहीं बढ़ेगा।
  • कई बार लोग ज्यादा पैसा बचाने के चक्कर में लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर की बजाय फ्रेम्ड स्ट्रक्चर करवा लेते है जो की काफी गलत है। फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में सरिया का इस्तेमाल नहीं होता है और सारा लोड दीवारों पर पड़ता है जिससे भविष्य में घटना होने के आशंका ज्यादा होती है।

फ्रेम्ड स्ट्रक्चर और लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर के बीच का फर्क

Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye?

क्र सं.

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर

RCC फ्रेम्ड स्ट्रक्चर

1

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में बिल्डिंग का सारा भार दीवारों पर आता है। बिल्डिंग का भार दीवारों के द्वारा जमीन में ट्रांसफर होता है।

फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में बिल्डिंग का सारा लोड बीम और कॉलम पर होता है। बिल्डिंग का भार बीम और कॉलम से होते हुए जमीन में ट्रांसफर होता है।

2

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में सभी लोड का ट्रांसफर दीवारों पर होने के कारण दीवारों की Thickness (चौड़ाई ) ज्यादा रखना जरूरी होता है।

फ्रेम्ड बेअरिंग स्ट्रक्चर में सभी लोड का ट्रांसफर बीम और कॉलम पर होने के कारण दीवारों की Thickness थोड़ी कम हो तो भी कोई दिक्कत नहीं होगी।

3

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में दिवारों की चौड़ाई ज्यादा होने के कारण फ्लोर एरिया कम देखने को मिलता है।

फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में दीवारों की चौड़ाई कम होने के कारण फ्लोर एरिया ज्यादा देखने को मिलता है।

4

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में भवन निर्माण करने में ज्यादा समय लगता है। क्योंकि जब तक चारो तरफ की दीवार मजबूत न हो जाये तब तक ऊपर के फ्लोर का कंस्ट्रक्शन नहीं हो सकता है।

फ्रेम्ड स्ट्रक्चर के द्वारा भवन निर्माण करने में कम समय लगता है क्योंकि एक बार बीम और कॉलम की कास्ट करने के बाद विभिन्न फ्लोर पर एक साथ काम कर सकते है।

5

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर भूकंप के सामने कमजोर साबित होते है क्योंकि घर का सारा भार दीवारों पर होता है।

फ्रेम्ड स्ट्रक्चर भूकंप के सामने मजबूती के साथ खड़े रहते है।

6

लोड बेयरिंग स्ट्रक्चर में ज्यादा मंजिला इमारत नहीं बना सकते हैं।

फ्रैम्ड स्ट्रक्चर में कई मंजिला इमारत बनाई जा सकती है।

निष्कर्ष / Conclusion

दोस्तों अगर आप कम पैसों में मजबूत घर बनाना चाहते है तो बिल्डिंग मैटेरियल को सावधानी से चुनें और जितना संभव हो सके खुद काम करें, जैसे कि पेंटिंग, फिटिंग, साफ सफाई आदि। इसके साथ आप सरकारी योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत आवेदन दे सकते हैं जिसमे आपको घर बनाने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से 2.67 लाख रुपए सहायता राशि दिए जायेंगे ।इसके अलावा आप बैंकों से होम कंस्ट्रक्शन लोन भी ले सकते हैं।

दोस्तों इन टिप्स का पालन करके आप कम पैसों में भी एक अच्छा और टिकाऊ घर बना सकते हैं।

ऊपर हमने जाना की आप कम पैसों में मजबूत घर कैसे बना सकते हैं? (Kam Paise Me Majboot Ghar Kaise Banaye?) घर बनाने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स कौन-कौन से हैं और साथ ही लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर और फ्रेम्ड स्ट्रक्चर के बीच का क्या फर्क है।

उम्मीद करता हूं कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपके मन में कोई संदेह है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

[helpie_faq group_id=’111’/]

Sharing Is Caring:

Hello friends, My name is Ajit Kumar Gupta I am the writer and founder of Property Sahayta and share all the information related to real estate investment tips and property guides through this website.

Leave a Comment

error: Content is protected !!